Saturday, October 30, 2010

मुझको लौटा दो बचपन का सावन !!!

बचपन भी क्या खूब है !

                             शायद इश्वर का भी यही स्वरुप है ?                             
छोटा पर विशाल हिर्दय,
                                    सब पर स्नेह उड़ेलने को व्याकुल .
न दोस्ती की परवाह
                                     न दुश्मनी की समझ
बचपन भी क्या खूब है!!

न जीवन के झंझावातों का भय
                                           उन्मुक्त मन, निर्विकार, निर्भय.
उनकी एक मुस्कान,
                                 छू कर देती है चिंता, थकान.
न कोई तोल न मोल,
                              क्या अनुरूप, क्या प्रतिरूप है.
शायद ईश्वर का यही स्वरुप है ??


No comments:

Post a Comment

आपके विचारों का स्वागत है.....विल्कुल उसी रूप में कहें जो आप ने सोंचा बिना किसी लाग लपेट के. टिप्पणी के लिए बहुत आभार.