Saturday, May 21, 2016

बुद्ध और बुद्धत्व

बहुत सारे लोग गर्व कर रहे हैं कि उन्होने बुद्ध को गले लगा लिया. कुछ इसलिये भी खुश हैं कि उन्होने अंतत हिंदुत्व और हिंदू धर्म को लात मार दी है. प्रतिकार का आनंद...
भाई मेरे ठहरो! रुको! बताओ !!!
बुद्ध को कितना जाना? कितना समझा बुद्ध और बुद्धत्व को? कितना समझा कि आखिर ज्ञान क्या है? प्रज्ञा को कितना जाना?
...
फिर बताओ
जो बुद्ध को जान गया, उसमें कैसा गर्व? उस व्यक्ति में प्रतिकार का सुख कैसे? उसमें चिढ की भावना क्यों? आपको नहीं पता? बुद्धत्व में ना तो गर्व करने जैसा कुछ है और ना ही लात मारने जैसी कोई सीख.उसमें तो बस एक ही सीख है- ‪#‎प्रेम‬...
बुद्ध से किस जन्म की दुश्मनी निकाल रहे हो साधो...
____________________
‪#‎सब्बं_मंगलम्_जानते_हो‬ ?
Sarika Tiwari ji

No comments:

Post a Comment

आपके विचारों का स्वागत है.....विल्कुल उसी रूप में कहें जो आप ने सोंचा बिना किसी लाग लपेट के. टिप्पणी के लिए बहुत आभार.